ख़बरें बदलते भारत की

स्वस्थ रहना है तो यूं इस्तेमाल करिए ये 5 आयुर्वेदिक तेल

241
241

आयुर्वेद सदियों से इस्तेमाल की जाने वाली पद्धति है। सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी आयुर्वेद पर बहुत प्रचलित है। भले ही इससे आराम मिलने में समय लग जाता है लेकिन यह बीमारी कि जड़ से खत्म करने का काम करता है। इसमें प्राकृतिक जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल होता है। आइए जानें कौन से हैं ये आयुर्वेदिक तेल।

1. इरमेदादि तेल
दांत के दर्द, मसूढ़ों के रोग,मुंह की बदबू, जीभ, तालू और होठों के रोगों में इरमेदादि तेल बहुत लाभकारी है। इस तेल को मुंह में भरकर कुल्ला करने से बहुत आराम मिलता है। जिस दांत में दर्द है रूई के फाहे पर यह तेल लगाकर दर्द वाली जगह पर लगाएं।

2. नारायण तेल
शरीर में दर्द, लकवा, रीढ़ की हड्डी में दर्द,कब्ज,वात रोग आदि और भी बहुत सी बीमारियों में नारायण तेल बहुत फायदेमंद है। इस तेल से मालिश करने से दर्द से आराम मिलता है। इसके अलावा दूध में 1-2 बूंद इस तेल की डालकर पीने से भी फायदा मिलता है।

3. काशीसादि तेल
बवासीर का रोग बहुत तकलीफदेह होता है। इससे लिए काशीसादि तेल को रूई में भिगोकर लगाने से लाभ बवासीर जल्दी ठीक हो सकती है।

4. महाभृंगराज तेल
बालों का झड़ना,गंजापन आदि कई परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए महाभृंगराज तेल बहुत फायदेमंद है। इससे दिमाग को ठंड़क पहुंचती है और सिर में नए बाल उगने शुरू हो जाते हैं।

5. चंदनबला लाशादि तेल
जिनके शरीर में सूजन रहता है उन्हें इस तेल से मसाज करनी चाहिए। इस तेल से सुबह शाम दिन में दो बार मसाज कर सकते हैं।

In this article