ख़बरें बदलते भारत की

पिछले चार-पांच वर्षों के दौरान पहली बार सच बोले-राम मंदिर को लेकर शिवसेना का PM मोदी पर हमला

84
84

अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) की तरफ से नए साल में दिए इंटरव्यू जिसमें उन्होंने यह कहा था कि कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही अध्यादेश पर विचार किया जाएगा, शिवसेना ने उनके इस बयान पर निशाना साधा है।

बीजेपी (BJP) की सहयोगी दल शिवसेना (Shiv Sena) ने पार्टी के मुखपत्र सामना में गुरूवार को संपादकीय यह कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले चार-पांच वर्षों के दौरान पहली बार सच बोले। उद्धव ठाकरे (Udhav Thakrey) की अध्यक्षता वाली बीजेपी के सहयोगी दल शिवसेना अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करने के लिए अध्यादेश की मांग की और कहा कि कोर्ट में यह मामला कई दशक से लंबित पड़ा है।

जब पीएम मोदी से इंटरव्यू के दौरान पूछा गया था कि राम मंदिर का मुद्दा बीजेपी के लिए एक भावनात्मक मुद्दा रहा है, इसके जवाब में पीएम ने कहा- “हमने बीजेपी के घोषणापत्र में यह कहा कि इस मुद्दे का समाधान संविधान के दायरे में रहकर निकाला जाएगा।”

पीएम मोदी ने समाचार एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में कहा- “पहले कानूनी प्रक्रिया पूरी हो जाए। न्यायिक प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद सरकार के नाते जो भी हमारी जिम्मेदारी होगी, हम सभी प्रयास करने को तैयार हैं।”

शिवसेना ने कहा कि ऐसी उम्मीद की गई थी कि प्रधानमंत्री राम मंदिर के बारे में कुछ महत्वपूर्ण घाषणा करेंगे और “निर्वासित भगवान राम को वापस लाएंगे। लेकिन, पीएम मोदी ने बिल्कुल ही उल्टा रूख रूख अपनाया।”

In this article