ख़बरें बदलते भारत की

राहुल गांधी ने चुनाव में अपनी चुनावी ताकत आज़माई, और कांग्रेस पार्टी को जीत दिलाई- BJP राष्ट्रीय महासचिव राम माधव

93
93

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव (Ram Madhav) ने परोक्ष रूप से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी  (Rahul Gandhi) की तारीफ की. राम माधव का कहना है कि इसमें कोई शक नहीं कि राहुल गांधी ने हालिया चुनाव में अपनी चुनावी ताकत आज़माई, और कांग्रेस पार्टी को कुछ जीत दिलाई है.” इसके अलावा जब उनसे पूछा गया कि राहुल गांधी ने नेतृत्व में कांग्रेस कैसा प्रदर्शन कर रही है? उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी कांग्रेस के नेता हैं… यह वे (कांग्रेस सदस्य) तय करें कि उनके (Rahul Gandhi) के नेतृत्व से लाभ हो रहा है या नहीं… उनके द्वारा कांग्रेस का नेतृत्व करने पर हम टिप्पणी कैसे कर सकते हैं…?

इसके अलावा राम मंदिर के मुद्दे पर भी अपनी बात कही. उन्होंने कहा, “अध्यादेश का विकल्प हमेशा रहा है, लेकिन फिलहाल मामला सुप्रीम कोर्ट में है, और सुप्रीम कोर्ट ने अगली बेंच के लिए 4 जनवरी की तारीख दी है… हमें उम्मीद करते हैं कि सुप्रीम कोर्ट फास्ट-ट्रैक तरीके से इस पर कार्यवाही करेगी, और जल्द ही निपटारा कर देगी… अगर ऐसा नहीं होता है, तो अन्य विकल्पों पर विचार करेंगे…”

राम माधव ने कहा है, “गठबंधन की राजनीति सभी को साथ लेकर चलने और समझौते करने पर आधारित होती है, और BJP उसके लिए तैयार है… यह सच है कि कुशवाहा जैसे कुछ छोटे दलों ने हमारा साथ छोड़ देने का फैसला किया है, लेकिन हम कुछ नए सहयोगियों को साथ लाने की दिशा में काम कर रहे हैं, विशेष रूप से दक्षिणी तथा पूर्वी भारत में…”

वहीं, ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव का कहना है, “लैंगिक समानता तथा न्याय का मुद्दा उठाने के लिए यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार का ऐतिहासिक फैसला है… मुस्लिमों सहित नागरिक समाज के बड़े हिस्से ने इसका स्वागत किया है, यह मुस्लिम महिलाओं के लिए वरदान है… मामला संसद के समक्ष है, मुझे पूरा भरोसा है कि अर्थपूर्ण बहस होगी…”

राम माधव ने कहा , “यदि राहुल गांधी हालिया जीतों की वजह से प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी हो सकते होते, तो महागठबंधन की ज़रूरत ही नहीं होती… आज भी कोई नेता, (DMK प्रमुख) स्टालिन को छोड़कर, महागठबंधन के नेता के नाम की पुष्टि करने के लिए तैयार नहीं है… प्रधानमंत्री पद की दौड़ में छह लोग मौजूद हैं…”

In this article