ख़बरें बदलते भारत की

शर्मनाक! पिता ने अपनी ही बेटी तोहफे में दोस्तों को परोसी, मिलकर किया गैंगरेप

342
342

दुनिया में माता-पिता का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है जिस पर हम आंख मूंदकर भरोसा कर सकते है और उस रिश्ते को पूर्ण रुप से अपना सकते है। लेकिन अब ऐसा लगता है कि ये घोर कलयुग उस पाक रिश्ते को भी जैसे दफना देना चाहते है। मां के बाद पिता का ही वो एक मात्र ऐसा भरोसेमंद रिश्ता है जिस पर बच्चा जल्द ही भरोसा कर लेता है। लेकिन उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले से एक ऐसी शर्मनाक घटना सामने आई है जो इंसानियत को झकझोर देने वाला है दरअसल यहां एक पिता ने अपनी ही बेटी को दोस्तों को तोहफे में दे दिया और उनके साथ मिलकर अपनी ही बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया।

जानकारी के मुताबिक, सीतापुर जिला निवासी आरोपी बीते 15 अप्रैल को अपनी बेटी को कमलापुर में लग रहे एक मेले में घुमाने के बहाने लाया था। मेले से लौटते वक्त आरोपी ने अपने दोस्त मानसिंह जो कि एक हिस्ट्रीशीटर है, उसे फोन लगाया और वहां आने को कहा। आरोपी अपनी बेटी के साथ लेकर मानसिंह की बाइक से एक दूसरे दोस्त मेराज के घर ले गया।

पीड़िता का आरोप है कि मेराज के घर में उन तीनों ने मिलकर उसका गैंगरेप किया। मेराज के घर पर उसे 18 घंटे तक बंधक बनाकर रखा गया। वहां से उसे सोमवार की शाम को छोड़ा गया। घर आकर उसने मां को पूरी आपबीती सुनाई। जिसके बाद उन लोगों ने थाने में जाकर एफआईआर दर्ज कराई।

पुलिस के मुताबिक एफआईआर दर्ज होने के बाद मेराज को गिरफ्तार कर लिया है वहीं, पीड़िता के पिता और मानसिंह को अभी तक नहीं पकड़ा जा सका है। पुलिस का कहना है कि मेराज कमालपुर में एक क्लिनिक चलाता है। उसने दावा किया कि वह एक डॉक्टर है लेकिन वह उसकी डिग्री नहीं दिखा सका है। वहीं दूसरी ओर जिस दिन घटना घटी उस दिन मेराज के परिजन घर से बाहर थे।

बता दें पीड़िता की शादी 16 साल पहले हुई थी लेकिन शादी के दो साल बाद ही पति से विवाद के बाद वह घर वापस आ गई थी। नवंबर 2017 में भी उसके पिता पर पीड़िता ने रेप का आरोप लगाया था जिसके बाद उसे गांव से निकाल दिया गया था यही नहीं 2017 में गांव के लोगों ने पंचायत बुलाई थी और पीड़िता के पिता को गिरफ्तार करवाया था। उसे इसी साल फरवरी में जमानत मिली थी। पीड़िता अपने 14 वर्षीय बेटे के साथ अलग रहती है।

In this article