ख़बरें बदलते भारत की

लखनऊ: पुलिस की गोली से Apple कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक की मौत

215
215

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में पुलिस की चेकिंग के दौरान कार न रोकने पर सिपाही ने कार पर गोली चलाई । इसके बाद कार अंडरपास के पिलर से टकरा गई और कार में सवार Apple कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी (Vivek Tewari) की मौत हो गई।विवेक मूल रूप से सुल्तानपुर कुड़वार क्षेत्र के सरैंया माफी गांव के रहने वाले थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में विवेक तिवारी की ठुड्ढी में गोली लगने की पुष्टि हो गई है। गोली गर्दन व सिर के बीच में फंसी। जिसके कारण अधिक रक्तस्राव से मौत हो गई।

दरअसल लखनऊ का पॉश इलाका माने जाने वाले गोमतीनगर में शुक्रवार देर रात की इस घटना से पुलिस महकमे में खलबली मच गई। घटना देर रात करीब डेढ़ बजे की है। कार में विवेक तिवारी के साथ सना नामक युवती भी थी। सना भी विवेक के साथ मशहूर I-Phone बनाने वाली कंपनी एपल में कार्यरत है। दोनों सिपाही इस समय गोमतीनगर थाने में हैं, इनका मेडिकल कराया जा रहा है।

पुलिस का कहना है कि चेकिंग दौरान काले रंग की महिंद्रा एक्सयूवी 500 कार को रोकने का इशारा किया गया। कार सवार ने गाड़ी की स्पीड तेज कर दी, जिससे पुलिस की बाइक पर सवार दो सिपाही को चोट लग गई। इनमें से एक ने कार पर गोली चला दी।

मृतक विवेक तिवारी सुलतानपुर के शंकरपुरम करौंदिया निवासी है। युवक पिता उदय नारायण है, जो बैंक में मैनेजर रहे हैं। युवक दो भाई हैं। दूसरा भाई नीरज छोटा है। विवेक तिवारी एपल कंपनी में एरिया मैनेजर के पद कार्यरत थे। घर में उनकी पत्नी कल्पना बेटी शिवी और सानू हैं। विवेक एपल मोबाइल कम्पनी में चार साल से एरिया सेल्स मैनेजर के पद पर कार्यरत थे। शुक्रवार को कम्पनी ने मोबाइल का नया मॉडल लॉन्च किया था। मोबाइल की लांचिंग कराने के बाद टीम मेम्बर सना को विभूति खण्ड स्थित आफिस से कार से उसके घर छोड़ने जा रहे थे।

विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना ने कहा कि विवेक ने फोन पर बताया था कि वो सना को छोडऩे के बाद घर पहुंचेंगे। मैंने बाद में फोन किया तो एक आदमी ने उठाया जिसने कहा कि एक्सीडेंट हो गया है। आप लोहिया अस्पताल पहुंचे। मैं लोहिया गई तो गोली की बात नहीं बताई गई। वहां कहा गया कि छोटा सा एक्सीडेंट था। इसके बाद में डॉक्टर ने कहा कि उनके सिर पर चोट लगी थी जिसके बाद ब्लीडिंग बहुत हुई और उन्हें बचाया नहीं जा सका। इस बीच विवेक तिवारी की सहयोगी सना को पुलिस ने मीडिया से दूरी बनाए रखने के लिए नजरबंद कर दिया है।जिसके बाद पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं। सना सिपाही द्वारा युवक को गोली मारने में मुख्य गवाह है। उन्हें गोमतीनगर के विनयखंड 3 स्थित उनके घर में पुलिस ने नजरबंद किया है। घटना के वक्त सना विवेक के साथ कार में मौजूद थी। फिलहाल पुलिस घटना की जांच में जुट गई है। विवेक तिवारी एपल में एरिया सेल्स मैनेजर के पद पर कार्यरत थे। विवेक नए आईफोन की लॉन्चिंग करके लौट रहे थे। विवेक तिवारी के परिवार में दो बहने हैं। रास्ते में पुलिस ने उन्हें गाड़ी रोकने का इशारा किया तो बात बढ़ गई और कॉन्स्टेबल ने विवेक पर गोली चला दी। एसएसपी के मुताबिक आरोपी कॉन्स्टेबल को हिरासत में ले लिया गया है।

 

In this article